सोचता हूँ उस रोज़ इक ग़ज़ल लिखूँ

ललित कुमार द्वारा लिखित; 02 जून 2006
एक ग़नुक (ग़ज़ल-नुमा-कविता)…
सोचता हूँ उस रोज़ इक ग़ज़ल लिखूँ
जब मैं ज़िन्दगी को लिखूँ

तुम कहती तो हो दुनिया बड़ी हसीन है
इन दुखों को किस बहार की फ़सल लिखूँ

यारों को हाले-दिल लिखा तो ये हुआ
अब नाम भी अपना संभल संभल लिखूँ

कैसा नादान हूँ छोटे से घर में बैठ के मैं
ख़त पर जगह पते की उसका महल लिखूँ

ज़िन्दगी ग़मज़दा ही सही पर मिली तो है
इसके लिये मैं सबसे पहले उसका लिखूँ

मौत के नाम
कृपा
  • Kavita

    Wow… another fascinating and fantastic gain in ur Famous Photographs series. I’ve heard about Nebula but the research and information provided (spl. the last paragraph) is very interesting.
    By-d-way, where is the “Did u know?” facts???

    Good!!!

  • Anonymous

    Beautiful!

  • behad umda ganuk 🙂

  • Vidya

    बहुत उम्दा

  • umeni maahi

    कुछ ग़मज़दा तो हम भी हैं इस  ज़माने में 
    लाखों  अरमान जलते हैं इस सर्द दिल के वीराने में umeni maahi

  • राजेन्द्र स्वर्णकार

    ललित जी ,, 

    आपकी मिसाल आप ही हैं …
    गनुक कहीं अन्यत्र पढ़ी न सुनी 🙂 बहुत ख़ूब ! 

    बहुत बहुत शुभकामनाएं आपके लिए … !

  • Anupama

    ज़िन्दगी ग़मज़दा ही सही पर मिली तो है
    इसके लिये मैं सबसे पहले उसका फ़ज़ल लिखूँयह कृतज्ञता हम सबके हृदय में ज्योत बन कर जलती रहे!

  • Neetu Singhal

    Game Jindagi Mili, Gamjadaa Hi Sahi..,
    Sabase Pahale-Pahal, Mei Usaka Fajal Likhun…..

  • Sonurawani

    LALIT JI APP KI KAVITA ME JIVAN KI SACCHAI NAJAR AATI HAI
    ANDHAKAAR BHARE IS DUNIYA ME SAHASH KI JYOTI NAJAR AATI HAI
    KYA KAHO MAI APKE RACHNAO KE BAARE ME,DHUNDHE SE BHI KOI KHAS ALFAJ NAJAR NHI AATI HAI
    AISE HI KAYAM RAKHNA APNE LEKHO ME SADGI APKI LEKHO ME SANSHAR KI GAHRAI NAJAR AATI HAI

    SONU RAWANI