बिना तुम्हारे दीवाली फिर

ललित कुमार द्वारा लिखित; 19 अक्तुबर 2005
दीपावली पर हर कोई चाहता है कि वह अपने प्रिय व्यक्तियों के करीब हो। कई वर्ष पहले यह रचना दीवाली के आस-पास लिखी थी। हर दीवाली पर मुझे इस कविता की याद आ जाना अब एक परम्परा-सी बन गई है।

कण-कण में भर गयी उमंग है
प्रकाश महोत्सव आ जाने से
मन के दिए में नहीं लौ संग है
पर्व दूर बहुत है मुझे भा जाने से

तुम आयी थी तो दमक उठी थीं, किन्तु
हृदय वीथियाँ हो गयी हैं काली फिर
बिना तुम्हारे दीवाली फिर

बाँट सकूँ नहीं साथ तुम्हारे
वो सुख क्या मुझको हर्षायेगें
दीपावली के यह दीपक सारे
जलना मेरा ही दर्शाएंगे

ज्यों-ज्यो बढ़ रही जगत में रौनक
मन होता जा रहा है खाली फिर
बिना तुम्हारे दीवाली फिर

  • Nirmla Kapila

    अपनो के जाने पर उत्सव मनाने का उत्साह फीका पड जाता है। बहुत भावमय रचना है। धन्यवाद। आपको और आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामना

  • Abha

    Diwali ke paavan parv par bhi aapne apne dil me bhare dard ko ujaagar kiya hai…
    Jaane wale man jo peeda chhod gaye hain wo to hum kam nahi payenge…magar naye doston par bharosa rakhiye…ishwar se dua hai ki apke dost apki jholi khushiyon se bhar payen!!
    Diwali mubarak!

  • Anupama

    दिया और बाती
    का संयोग
    जगत की
    सबसे
    अनुपम घटना है!
    प्रज्वलित
    हो जाये जो
    फिर तो
    अन्धकार को
    निश्चित हटना है!
    संयुक्त हो
    दीप
    अपनी बाती से
    जीवनपाठ
    अकेले नहीं रटना है!
    अब घटित हो
    जो न हुआ अबतक
    प्रगट हो जाये
    अब, जो अबतक
    तेरी कल्पना है!

    dher sari shubhkamnaon sahit!!!

  • Anupama

    sundar rachna!

  • Kavita

    Apki parchaaiyoon se roshan huye hain na jaane kitane hi Ghar,

    Man main gyaan ka ujala aur tan main ujjwal agni si kaanti liye,

    Aapne pawan kiye hain kitane hi ghar!!!

    Apko aur pariwar ko Deepawali ki Hardik Shubh Kaamnaayain :]