गंतव्य

ललित कुमार द्वारा लिखित; 03 जनवरी 2004
आप यह कविता सुन भी सकते हैं (इसके लिए शायद आपको फ़ॉयरफ़ॉक्स या गूगल क्रोम की ज़रूरत पड़े)
[audio:Gantavya.mp3]
गंतव्य दूर नहीं दिखता
पथिक हूँ पा ही जाँऊगा
थक कर चूर हूँ इतना प्रिये
फिर लौट नहीं मैं पाँऊगा
उन ईश के पीताम्बर को ओढ़
गोद में उनकी सो जाँऊगा
गंतव्य दूर नहीं दिखता प्रिये
पथिक हूँ पा ही जाँऊगा

तुम्हें भी तो मैनें ईश सम जाना है
आंचल को तुम्हारे जीवन भर
मैनें सम पीताम्बर माना है
पीताम्बर हो या आंचल तुम्हारा
सुख-निद्रा यहाँ मिले या वहाँ मिले
क्या अंतर यदि मैं
प्रेम की छाँह तले सो पाँऊगा
पथिक हूँ गंतव्य पा ही जाँऊगा

पथिक हूँ जीवन पथ का, रूक नहीं सकता
और गंतव्य आज मुझे दूर नहीं दिखता
मुड़-मुड़ कर मैं क्षितिज निहारता हूँ
हौले-से नाम तुम्हारा पुकारता हूँ
दे दो मुझको और पा लो मेरा प्रेम अन्यथा
मैं जाने किस क्षण खो जाँऊगा

प्रिये! फिर लौट नहीं मैं पाँऊगा
पथिक हूँ गंतव्य पा ही जाँऊगा

  • Veena

    मुड़-मुड़ कर मैं क्षितिज निहारता हूँ
    हौले-से नाम तुम्हारा पुकारता हूँ
    दे दो मुझको और पा लो मेरा प्रेम अन्यथा
    मैं जाने किस क्षण खो जाँऊगा

    बहुत सुंदर पंक्तियां हैं…

  • rabi bhushan pathak

    kavita mein antarvirodh spasta hai .gantavya pane aur nahi laut pane ki baat kavita mein ek dusre ko katti hai

  • Amit Shrivastava

    bhaavo ko achhi kalam ka sahara diya hai aapne…

  • Anupama

    उन ईश के पीताम्बर को ओढ़

    गोद में उनकी सो जाँऊगा

    sundar!

    jise pitambar dhrashtavya hai…

    prapt use har gantavya hai…

    subhkamnayen…

  • Kavita

    मुड़-मुड़ कर मैं क्षितिज निहारता हूँ

    हौले-से नाम तुम्हारा पुकारता हूँ

    दे दो मुझको और पा लो मेरा प्रेम अन्यथा

    मैं जाने किस क्षण खो जाँऊगा………..

    Bahut khoob Lalitji, aur apne khud zindagi ke mahetva ko samajhte huye na jane kitane pathikoon ko disha dikhayee hai, prem aur sadbhavna se parpoorna kiya hai, unke gantavya ko paane main patwar sa saath diya hai!

    Aap ki rachnaaon main Zindagi Basti hai!