वो एक पल आया था

ललित कुमार द्वारा लिखित, 15 दिसम्बर 2008
एक पल आया था
जब लगा मुझे
कह दूं कि
मेरे हाथों में
ये बैसाखियाँ
मेरी नहीं हैं
पर मैं झूठ नहीं बोल पाया

फिर लगा कह दूं कि
इन बैसाखियों से
कोई फ़र्क नहीं पड़ता
मैं इनसे कभी नहीं हारा
पर मैं झूठ नहीं बोल पाया

चाहता था तुम्हें कहना कि
मेरे हाथ थाम सकते हैं
तुम्हारे कोमल हाथों को
किन्तु सच तो ये था
कि मेरे हाथ बंधे थे
उन बैसाखियों से
जो किसी और की नहीं
बल्कि मेरी अपनी ही थीं
मैं झूठ नहीं बोल पाया

इस तरह वो पल आया
एक पल ठहरा, बह गया
और मैं तन्हा रह गया
तुम्हारी यादों के साथ
लिये बैसाखियां हाथ
मुझे याद है जीवन ने
एक गीत मधुर गाया था
हाँ, वो एक पल आया था

  • Sankalp

    'THE BEST ONE' of yours …. so far…. You are great Bro….

  • Anupama

    sach ko swikarne ki nishtha ko koti koti pranaam…………!!!!!

    touching lines….

  • Sandhya

    Lalit ji, itni sunder Kavita. itnaa gahraa bhaav. kaise saade shabd aur dil tak utarti chubhan. bahut achchi lagi.

  • Xuz

    kah to sakate the. jhooth bolane ki zaroorat nahi thee.

  • Kavita

    Bahut sundar Bhav hain Lalit, Us ek pal ko jeene ke, aur yeh paigaam dene ke, ki zindagi in chote-chote paloon se hi bani hai…Appki zindagi main eyse lakhoon pal aayain yehi dua hai hamaari!

    Un haathon ko koi fark nahi padta,
    baisakhiyoon se,
    jab zindahi khud apna haath badhaati hai,

    Zindagi se jeet-kar zinda rehne waloon ka haath,
    Kismat waloon ko hi naseeb hoota hai!
    Woh haath poojniya hain,
    Jin haathoon ne badla hai, Takdeer ki lakeeroon ko,
    Aur likhi hai, ek nayi parbhasha saahas ki, parbhasha jeene ki,
    Warna Kitane hi loog jeetain hain zindagi, Haathoon ko JODKAR!

  • Alka Sarwat Mishra

    ईश्वर ने कहीं कोई और ज्यादा प्यारी और खूबसूरत जोड़ी आपके लिए बनाई होगी इसीलिए आप झूठ नहीं बोल सके ,वैसे भी प्यार और जिन्दगी भर का सफ़र किसी कमी का मोहताज नहीं होता
    कविता दिल को छू लेने वाली है

  • Sakhi

    चाहता था तुम्हें कहना कि
    मेरे हाथ थाम सकते हैं
    तुम्हारे कोमल हाथों को
    किन्तु सच तो ये था
    कि मेरे हाथ बंधे थे
    उन बैसाखियों से
    जो किसी और की नहीं
    बल्कि मेरी अपनी ही थीं
    मैं झूठ नहीं बोल पाया

    aaj me bahut kuch kahna chahti thi is kavita par ..magar naa jne saare shgabd kyo kahi kho gaye..ya kahu jais egir gaye kahi..ab nahi mil rahe hai..hota hai kya aisa bhi..itna waqt tak jo shabd mere sath they achanak kyo sath chhod gaye mera

    bas dil se likhi rachna aur meri aur se ……..