आपके सीधे पल्ले में ये दिल अटक गया

ललित कुमार द्वारा लिखित; 02 नवम्बर 2010
इस ग़नुक (ग़ज़ल-नुमा-कविता) का मिसरा “आपके सीधे पल्ले में ये दिल अटक गया” मेरी एक मित्र ने मुझे दिया था… मिसरा मुझे बहुत पसंद आया और इसी पर एक ग़नुक बांधने की कोशिश की है।
लौटेगा कैसे राह पे जो रस्ता भटक गया
आपके में ये दिल अटक गया

रात , तारों जड़ी साड़ी है चांदनी की
कानों से चांद हो के झुमका लटक गया

ना इन खुशबुओं से लाना बाहर मुझे कभी
हाय वो दिलनशीं के दुपट्टा झटक गया

काश के वो उम्र भर यूं ही रहे मासूम
से रूठ कर वो पांव पटक गया

हुस्न ने की हैं हलचलें
जिसने भी देखा राह में वो ही अटक गया

साड़ी पहनने का एक तरीका
केश
इठलाना / इतराना
बिना नकाब के
सब कुछ कर देना / समाप्त कर देना
  • Shrddha

    काश के वो उम्र भर यूं ही रहे मासूम

    Ameen

  • Mitulkumargupta

    Really Nice Bhaiya… 🙂

  • Anupama

    काश के वो उम्र भर यूं ही रहे मासूम
    नाज़ो-अदा से रूठ कर वो पांव पटक गया
    beautiful!

  • Archana

    bahut khoob..

  • Poonamtushamad

    wow…………..its great lalit ji,ye to mai janti hoon ki aap kavitai aachi likhte hai,kintu itni sunder shairi bi aap krte hai ye abi jaana hai kya kafiyat h is shairi ki.

  • Kavita

    Itani shaandar aur Dilkash taareef ke liye Shukriya………….

  • Sant Sharma

    Waah Waah, badi dilkash nazm hai. Man prasann ho gaya.

  • Sarwat Jamal

    kaash, thodi mehnat aur ki hoti…..! phir bhi, is umr me itna hi kafi hai.

  • Surabhi

    bahut acche, ek misre ko lekar itni pyari kavita har koi nahi bana sakta. Wah re kavi 'dilkhush' kya baat hai

  • Pooja Thukral

    This is a very different Lalit i am seeing today …:)

    I think this is a very different poem of yours apart from some of them i read but its nice

  • Rohagr1921

    kya baat…..

  • Chaman

    bahut achchhi kavita hai

  • Chaman

    in totality all your poems are beautiful pure and innocent.but this one i liked most ganuk actually all the elements of a ghazal are there urdu words used are very appropriate.

  • Saxena_manjula

    sundar bahut sundar kaha tumne