कोमल मेरे हृदय द्वार

ललित कुमार द्वारा लिखित, 06 अप्रैल 2012
भीतर क्या है कोई ना जाने
आहत करना बस ये जग जाने

इनको रखता मैं सदा ही बंद
बाहर का जग मुझे नहीं पसंद

विकृत शरीर में सुंदरता बन
यहाँ अंदर रहता है मेरा मन

तुम आओ तो धीरे-से दस्तक देना
फिर हौले से लेना मुझे पुकार

कठोर काठ के बने नहीं हैं
हैं कोमल मेरे हृदय द्वार!

  • Chaman nigam

    bahut sunder 

  • waah!

  • waah!

  • anamika ghatak

    bahut hi badhaiya….komal bhaw liye hue

  • Davender chawla

    bade sunder hai apke vichar,apki kivtaon per aata hai bs pyar pyar pyar.

  • Anonymous

    अति प्रिय….. भावनात्मक अभिव्यक्ति!

  • Pcmurarka

     मेरी
    बेबसी मुझे सताती है 

     रात में सोने ना दे, न  दिन
    में चैन                  
                         
                         
                         
                         
                           
                         
                         
                         
               लोग चाहते है हो मेरी
    बेबसी नंगा                                                                
           क्यों
    अपने को नंगा करू लोगो के सामने      

                   
                         
                         
                         
                         
                         
                                          
        

     इससे
    बेहतर तो है चुप रहना                
                         
               खून की धूंट पिके रहना      
          

                   
                         
                         
                         
                         
                         
         अगर कोई सचमुच मुझे चाहता हैं    
                         
                      वह
    जरुर आयेगा मेरे पास         

                   
                         
                         
                         
                         
                         
           न मेरे
    कोमल ह्रदय को टटोलेगा                
                         
            न मेरे
    मज़बूरी को कमजोरी बतायेगा         

      
                         
                         
                         
                         
                         
                     न मेरे घर आने के लिए वह
    दस्तक देगा                  
                                 न मेरे ह्रदय की चोट को
    कचोटेगा

    ——-प्रेमचंद मुरारका 

  • Vishnupandey

    Very nice.

  • Anupama

    ‘बाहर का जग मुझे नहीं पसंद’
    मुझे भी नहीं…

    आपके कोमल हृदय द्वार पर प्यारी सी दस्तक हो, इसके लिए हाथ जोड़े खड़े हैं प्रभु के समक्ष!

    सुन्दर अभिव्यक्ति!

  • Shashirana02

    wow its heart touching poem

  • Prashant Kumar

    bahut khoob……

  • Sayali Suresh Pilankar

    तुम आओ तो धीरे-से दस्तक देना
    फिर हौले से लेना मुझे पुकार

    कठोर काठ के बने नहीं हैं
    हैं कोमल मेरे हृदय द्वार!

    आपकी ये पंक्तिया मन को भा तो गई.. पर हां पढ़ने मे अच्छी लगती है.

  • Sayali Suresh Pilankar

    तुम आओ तो धीरे-से दस्तक देना
    फिर हौले से लेना मुझे पुकार

    कठोर काठ के बने नहीं हैं
    हैं कोमल मेरे हृदय द्वार!

    आपकी ये पंक्तिया मन को भा गई.. पढ़ने में अच्छी लगी..

  • bhoomi jadhav

    wa wa