हे झील, मुझे क्षमा करना

ललित कुमार द्वारा लिखित, 3 मार्च 2007
विदेश में एक शाम झील किनारे बैठे हुए जो मैनें अनुभव किया उसे इस रचना में लिख दिया…
हे झील
मुझे क्षमा करना
आज तुम्हारे पानी को
मैनें जो पत्थर मारा था
वह मेरा क्रोध नहीं
बल्कि मेरी हताशा थी

तुम्हारे किनारे बैठा मैं
बोलता रहा
मन की सब गांठे
आगे तुम्हारे खोलता रहा
पर उन वृक्षों की तरह
और उस गगन की तरह
तुम भी कुछ नहीं बोली
सुनती रहीं तुम
पता नहीं तुमने
सुना भी या नहीं!

क्या मेरा साथ देना
मुझसे कुछ कहना
तुम्हारा कर्तव्य नहीं था?
तुम्हें मित्र जान कर ही तो
मैनें सब कहा था
पर तुम कुछ नहीं बोली
तुमने भी मुझे
अकेला छोड़ दिया

और ना जाने
कब वो पत्थर
मेरे हाथ से छूटा
तुम पर से विश्वास टूटा
मन मेरा हताश हुआ
पत्थर ने तुम्हें छुआ
तुम्हें चोट तो लगी होगी
दर्द तो तुम्हें हुआ होगा

मेरी तो तुम मित्र हो
दर्द दिया तुम्हें मैनें
जबकि
चाहिये था मुझे
दुख तुम्हारा हरना
हे झील!
मुझे क्षमा करना

  • Abha

    मेरी तो तुम मित्र हो
    दर्द दिया तुम्हें मैनें
    जबकि
    चाहिये था मुझे
    दुख तुम्हारा हरना
    हे झील!
    मुझे क्षमा करना

    mitra bhi kehte ho aur kshama bhi mangte ho!!…
    jisay hum mitra kehte hain usi se dil ki baat keh paate hain aur ek mitra hi hamari har jhallahat sehen bhi kar pata hai…wo jheel paththar kha kar bhi shayad khush hai…uske aansu dard ke nahi khushi ke hain…kyun wo bhi akeli hai…usay bhi pal do pal ka tumhara saath mila…usay achha laga ki tumne usay apna samajh kar sab kaha…usay dard to yun bhi hona tha jab wo tumhare man ki vyatha sunti…

  • Rakhi Bakshi

    kavita mein jheel ka acha manvikaran kiya hai lalit ji

  • और ना जाने
    कब वो पत्थर
    मेरे हाथ से छूटा
    तुम पर से विश्वास टूटा
    मन मेरा हताश हुआ
    पत्थर ने तुम्हें छुआ
    तुम्हें चोट तो लगी होगी
    apne dukh ko bhool kar jheel ke dukh ka ahsas ,prakriti ko isi ehsas ke sath hi aatmsat kar sakte hai.behtareen bhav,behtareen shabd.

  • Vishwa Bhanu

    aapne ghar baithe hee videsh ki us us chuppa jheel ke kinare pahucha diya.thanks for sharing

  • rishte to ehaas se bante hain… and chahe woh ehsaas jheel se bana ho ya us pathar se … Sanyog hai ki hum bhi videsh mein kuch purane rishto ko taalash rahe the.. shabdo se humara rishta kuch toot sa gaya tha ..par dubara jab unhe sanjoya to unhone fir se humne apna liya 🙂
    http://identity016.blogspot.com
    /2010_06_01_archive.html#7556945365811548120

  • Mridul Kirti

    झील भी है पीर गर्भा, पीर तेरी सह गयी.
    लहर वर्तुलकार बन कर, सुन लिया यह कह गयी.
    वाष्प बन तेरा संदेशा, जाएगा आकाश में.
    प्रकृति सब कुछ देखती है, मौन हृदयाकाश में.

  • Gyaniji

    bahoot khoob lalit

  • manjula

    lalit the sensitivity and the candour u reflect is rare. u need to blossom your spiritualself

  • Anupama

    prakriti sa bandhu koi aur nahi ho sakta!!!
    bina swarth ke humse judti hai…
    har dard chup chap sehti hai…
    hamare seemit dharatal ko vistar ki seema tak le jati hai…
    hamare hriday ki ragini se sur milakar gati hai…
    tabhi toh kete hain-
    uski tarah peer koi aur nahi har sakta…
    prakriti sa bandhu koi aur nahi ho sakta!!!!!

    ……..was overwhelming to read the way u connect to nature!!!!!!!!
    keep it up…….. n the image is also a poetry in itself!!!!!! good work….

  • Rashmisood61

    i want to connect to whole universe in the same way.reading your poem i could feel a beautiful connection between you and the jheel.

  • mohit

    nice