ये अंगूठी वापस नहीं लौटी

ललित कुमार द्वारा लिखित; 12 जुलाई 2007
ये अंगूठी वापस नहीं लौटी
हक़ीक़त बनने की सीमा तक जाकर
एक सपना लौट आया है

मेरे मन
तुम क्यूं दुखी होते हो
इस अंगूठी में सजी है
तुम्हारे सपने की छवि
ये तो मानो, है अंधेरे में रवि!
अपने मुकाम तक पँहुचती
तो सपना सच हो जाता!
सब कितना अच्छा हो जाता!
ख़ैर, खु़द को तसल्ली दे लो
बस यूं सोचो कि शायद
ये अंगूठी ही हक़ीक़त है

बाकि जो है सपने है
और सपनों की माया है
ये अंगूठी वापस नहीं लौटी
हक़ीक़त होने की सीमा तक जाकर
एक सपना लौट आया है

  • Anupama

    स्वप्न और सच्चाई के बीच

    जो सूक्ष्म सी लकीर है…!

    उस सीमा की तलाश व्यर्थ,

    खोने-पाने के गणित से परे-

    जब मन ही फ़कीर है…!!

    sundar rachna …

  • Anupama

    तुम्हारे सपने की छवि

    ये तो मानो, है अंधेरे में रवि!

    sundar pankti!

  • Kavita

    ये अंगूठी वापस नहीं लौटी

    हक़ीक़त होने की सीमा तक जाकर

    एक सपना लौट आया है

    Sapne aur haqikat ke beech ki doori sirf kavi hai naap sakta hai. Bahut Khoob!

  • Prritiy

    मेरे मन
    तुम क्यूं दुखी होते हो
    इस अंगूठी में सजी है
    तुम्हारे सपने की छवि
    ये तो मानो, है अंधेरे में रवि!

    bahut achhi rachna, par kavi yaad rakho ravi andhere mein adhik din na rahega aur jab chamkega to poorntaya alokit hokar…………

    shubhkamnayen

  • Chaman

    kya baat hai

  • Nitishbigbanglover

    lalti ji , mai apse yeh jana chahta hu kiu yeh kavita zindgi ki kaun si mahtvkansha ko samjhti hai…????
    par is ka ras bahut meetha hai….

  • Sushilashivran

    अनकही, अनसुनी-सी चाहतें, अधूरी-सी कुछ हसरतें कुछ मान-मन्नौवल, कुछ शिकवे हैं; कुछ मन में गिले 
    हर आस हो जाए पूरी तो जीने का मकसद; मज़ा क्या है 
    बिन पतझड़ बसंत; बिन दुःख सुख का अहसास क्या है मर्मस्पर्शी रचना !

  • Sakhi1909

    sapne hi hakeekat bannate hai..apna sapna apna hota hai apne pass hi ayega na..phir se use raah dikhao…bhaut ahsaas bhari rachna