कुछ पंछी ऐसे होते हैं

ललित कुमार द्वारा लिखित; 07 अप्रैल 2005
आकाश असीमित हो तो हो
नन्हा-सा, पर अपना हो जो
उस नीड़ के प्रेम में पड़ कर,
अपना सारा जीवन खोते हैं
कुछ पंछी ऐसे होते हैं

आया नहीं, पर अब आ जाए
कब भाग्य जाने बदल जाए
नभ के चांद को तकते तकते,
हर पल बाट उसकी जोहते हैं
कुछ पंछी ऐसे होते हैं

उठाया मधुमास का आनंद
साथी संग गाए मीठे छंद
मधुमास गया, साथी छूटा,
सावन के संग अब रोते हैं
कुछ पंछी ऐसे होते हैं

  • Abha

    Informative!!!

  • Anupama

    nice to know about Guerrillero Heroico….
    looking forward to watch the recommended movie -The Motocycle Diaries
    regards,

  • Manisha Pandey

    Thanks for writing on Che. I am happy you liked Motorcycle Diaries. One of my favourite film.

  • Kavita

    Wooooo…… nice combination of anger, curiosity, revenge, confidence, leadership and pain!

  • Abha

    आकाश असीमित हो तो हो
    नन्हा सा पर अपना हो जो
    उस नीड़ के प्रेम में पड़ कर,
    अपना सारा जीवन खोते हैं
    कुछ पंछी ऐसे होते हैं

    poora askaash paa kar bhi kya karna hai..jo shanti aur sukoon ik need ke prem me padkar milta hai..wo bas maano devtaaon ka ashirwaad hi hota hai…
    sunder aur pyaari si rachna jisay is ghonsale ke chitra ne aur bhi jeevant kar diya hai..!

  • Shrddha

    आकाश असीमित हो तो हो

    नन्हा-सा, पर अपना हो जो

    उस नीड़ के प्रेम में पड़ कर,

    अपना सारा जीवन खोते हैं

    कुछ पंछी ऐसे होते हैं

    man ko chhu lene wale vichaar aur panktiyan

  • Poet_india

    सुंदर भावाभिव्यक्ति है,

  • Kavita

    Kya waqai main Lalitji, is sansaar main eysa kuch bhi hai jise hum apna keh sakte hain??? Woh aakaash, woh chaand tare aur woh saavan sab aate hain kyoon ki unhain aana hota hai, shrishti ka niyam hai…..par hayre bhloe panchee sa dil jisko bhi apna samajh le use kabhi bhool nahi paata….Kya hum sabhi is mooh-paash main nahi bandhe hain?

    Par aapki abhivyaakti solah aane sach hai ki, is jivan chara main hum eyse kuch insaanon se milte hain jinhain dekh kar sach main lagta hai ki Ishwar ne ise sirf aur sirf mere liye hi bheja hai……aur jo bhi awaz atma se nikalti hai woh is abivyakti ki hi tarah pakiza aur sach hooti hai!!!

  • Arti Bisariya

    this poem is so good that it has touched my heart……….and the thinking of the poet is really very beautiful……….

  • Shuklabhramar5

    ललित जी सचमुच कुछ पंछी ऐसे होते हैं बड़ा ही सटीक वर्णन खूबसूरती से उकेरा आप ने बहुत पहले की रचनाये हम आज पढ़ पाए …
    मधुमास गया, साथी छूटा,
    सावन के संग अब रोते हैं
    कुछ पंछी ऐसे होते हैं

    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५

  • sangeeta kapoor

    impressive article on an impressive personality by a great writer keep it up lalit ji……

  • Anupama

    कितनी सुन्दर कविता है…!
    “स्वप्न से स्मृति तक” पर घूमे फिर आज बहुत देर तक और मन ही मन यह प्रार्थना की कि कोई कविता प्रस्फुटित हो कवि हृदय से और स्वप्न से स्मृति तक के पन्नों तक आये…

    बहुत दिन हुए कविता का कोई पन्ना नहीं जुड़ा इस खजाने में… है न?