दुश्मन है क्या ऐ हवा

ललित कुमार द्वारा लिखित; 29 जुलाई 2011
मेरी एक नई ग़नुक (ग़ज़ल नुमा कविता)
दुश्मन है क्या ऐ हवा ना चल मचल कर
पत्ती से कहीं गिर ना जाए बूँद फिसल कर

जिसने मुझे फ़रेब तक फ़रेब से दिया
आया है वो शर्मिन्दगी रुख़सार पे मल कर

जाने कहाँ वो छुप गया है उससे मिला दे
करता नहीं है वो ख़ुदा अब तू ही पहल कर

उठ गईं नज़रें-तमाम उस संगदिल की ओर
आया है महफ़िल में जो लिबास बदल कर

अब सोते नहीं हैं हम उस ख़्वाब के ग़म में
कुछ रोज़ इस दिल में जो चल बसा पल कर

मिल आया मैं चाँदनी से तुम अभी तक तन्हा हो
पूछे है मुझसे चाँद बदली से निकल कर

जहां इसके नहीं काबिल ख़ुदा मुझको बुला ले
लाना है मुझको शीशे का ये दिल बदल कर

  • Anupama

    jai hind!

  • Anonymous

    Had goosebumps after reading this…!!!

    Proud to be an Indian. Jai Hind. Jai HIND ki sena.

  • Kavita

    Thanks for sharing this wonderful write-up, the info provided (names of Pak soildures) is even bit more than Border. I would like to share few facts about this battle:

    Indian losses in this sector were seven T-55s and one AMX-13, but the Hunters had done their job well. Of the 54 or so Pakistani T-59 and Sherman tanks that had come in, as many as forty were destroyed or abandoned. Another 138 vehicles of all types were destroyed along with 5 field guns and three anti-aircraft guns.

    The lesson of Longewal is clear: success in any endeavour requires balancing caution with courage.
    Jai Hind!!!

  • Akshara Mohite

    its a miracle!!!!!!!!

  • neelaansh

    मिल आया मैं चाँदनी से तुम अभी तक तन्हा हो
    मुझसे पूछता है चाँद बदली से निकल करv nice

  • vivek sahai

    उठ गईं नज़रें-तमाम उस संगदिल की ओर
    आया है वो महफ़िल में लिबास बदल कर

    बहुत खूब ललित जी….कमाल लिखा हैं…दाद कबूल करें…

  • Abha Khetarpal

    जिसने मुझे फ़रेब तक फ़रेब से दिया

    आया है वो शर्मिन्दगी रुख़सार पे मल कर

    sahi kaha apne…aaj kal to log fareb bhi fareb se dete hain…!!!
    achha laga padhna

  • Pant Minakshi91

    मिल आया मैं चाँदनी से तुम अभी तक तन्हा होपूछे है मुझसे चाँद बदली से निकल कर…………..बहुत खूबसूरत रचना |

  • Sushilashivran

    “जिसने मुझे फ़रेब तक फ़रेब से दिया” Waah !
    “पत्ती से कहीं गिर ना जाए बूँद फिसल कर” Bahut khoob!

  • Ankerla_hemanth

    i sincerely salute to our military  for  showing their courage to protect our mother land facing thousands of enemy troops with adequate resources. jai hind

  • Shanky

    Hats Off to our Army…. We can never payback our whole lives what those heroes had done to secure our freedom on that heroic nightfall…. Jai Hind….

  • Abhy2k2000

    Jai Hind!

  • Drubo

    So true story. First i went to wikipidia but some fuckers change the story that’s why i came here.

  • AshleepakistanA

    India can never lose to pakistan

  • shailesh k. chourasiya

    Kuldeep sir,
    U have made urself a great sikh following ” chidiyon se baaz ladau tabe guru ka sikh kahaun”
    Kash ki aaj ke log ye himmat aur junun apne deah ke liye rakh pate

  • CHIDANAND

    Proud to be an Indian. Jai Hind. Jai HIND ki sena.

  • abdisalam

    really i am not Indian, but really i like Indian people ,,,,,, do not like fucking pakistanis Jai Hindi